Saturday, 31 December 2016

ये रहीं प्रधानमंत्री के देश के नाम संबोधन की खास बातें...


  • देश के केवल 24 लाख लोग मानते हैं कि उनकी सालाना आय 10 लाख से ज्यादा है। 
  • कष्ट झेलना आप सबके त्याग की मिसाल। लोग मुख्यधारा में आना चाहते हैं। ईमानदारों को सुरक्षा देना प्राथमिकता। 
  • अर्थव्यवस्था की मुख्यधारा में वापस आया काला धन। 
  •  कहीं कहीं सरकारी कर्मचारियों ने गंभीर अपराध किये हैं और आदतन फायदा उठाने का निर्लज्ज प्रयास भी हुआ है, इन्हें बख्शा नहीं जाएगा।
  •  बैेंको से आग्रह- बैंक अब गरीबों को मध्य में रखकर अपने कार्य का आयोजन करें। बैंकों के पास इतना धन कभी नहीं आया था। निम्न मध्यम वर्ग के लिए नीतियां बनाएं।
  • नई योजनाएं- प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरों में गरीबों को नए घर देने के लिए दो नई स्कीमें- 9 लाख तक के कर्ज पर 4 फीसदी की छूट, 12 लाख के कर्ज पर 3 फीसदी तक की छूट। गांव में 33 फीसदी ज्यादा घर बनाए जाएंगे।
  • 2017 में गांव में लोग अगर घर का विस्तार करना चाहते हैं तो उन्हें 2 लाख रुपए तक के कर्ज में 3 फीसदी तक की छूट।
  • रबी की बुआई में 6 फीसदी वृद्धि  हुई।
  • जिन्होंने सहकारी बैंको से कर्ज़ लिया था उन किसानों के लिए- 60 दिन का ब्याज सरकार देगी, उनके अकाउंट में जाएगा। 
  • तीन करोड़ किसान क्रेडिट कार्डों को रुपए कार्ड में बदला जाएगा। किसान कहीं पर भी अपने कार्ड से खरीद- बिक्री कर पाएगें।
  • लघु एवं मध्यम उद्योग वर्ग- छोटे कारोबारियों के लिए क्रेडिट गारंटी एक करोड़ से 2 करोड़ करेगी। (सरकार ट्रस्ट के माध्यम से क्रेडिट कवर करेगी)
  • एनबीएससी से लिया गया लोन भी कवर होगा जिससे छोटे उद्योगों को ज्यादा कर्ज मिलेगा। इन पर ब्याज दर भी कम होगी।
  • छोटे उद्योगों के लिए कैश क्रैडिट लिमिट 20 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी की गई। डिजिटल पेमेंट के मामले में 30 फीसदी होगी।
  • जो कारोबारी 2 करोड़ तक सालाना व्यापार करते हैं, डिजिटल लेनदेन पर 6 फीसदी आय मानकर टैक्स की गणना की जाएगी।
  • गर्भवती महिलाएं- सभी 650से ज्यादा जिलों में सरकार गर्भवती महिलाओं की मदद के लिए 6000 रुपए देगी। सीधे एकाउंट में जाएगी राशि।
  • सीनियर सिटिजन्स स्कीम- सांढ़े सात लाख तक की राशि पर दस साल के लिए सालाना 8 फीसदी ब्याज दर को सुरक्षित किया जाएगा। यह ब्याज राशि हर महीने प्राप्त की जा सकेगी।
  • लोकसभा- विधानसभा चुनाव साथ-साथ पर होगी सार्थक बहस